रविवार, 1 फ़रवरी 2009

धिक्इ देब: आज क् अवधी

१-फरवरी -२००९
=============

धिक्इ देब
-------------------
कम आँच पे देर तक गरम करब

वाक्य में प्रयोग
------------------
रचि क् दूध बोरसी में धिक्इ द, भिनसारे तक मिठाइ जाए.

(बोरसी कम गहिर चौड़े मुंह वाला माटी क् बरतन होथऽ, जौने में जाड़ा के मौसम में आग् बारि के हाथ-गोड़ तापि जाथऽ.)

टिप्पणी:
-----------
आज क् अवधी दूध गरमावइ के सन्दर्भ में ढेर बोलि जात् ह.
आप क् क्षेत्र में एकर प्रयोग कइसे-कइसे होथऽ, जरूर बतावइँ.

1 टिप्पणी:

  1. Sundar Abhivyakti...Badhai !!
    -------------------------------------------
    ''युवा'' ब्लॉग युवाओं से जुड़े मुद्दों पर अभिव्यक्तियों को सार्थक रूप देने के लिए है. यह ब्लॉग सभी के लिए खुला है. यदि आप भी इस ब्लॉग पर अपनी युवा-अभिव्यक्तियों को प्रकाशित करना चाहते हैं, तो amitky86@rediffmail.com पर ई-मेल कर सकते हैं. आपकी अभिव्यक्तियाँ कविता, कहानी, लेख, लघुकथा, वैचारिकी, चित्र इत्यादि किसी भी रूप में हो सकती हैं.

    उत्तर देंहटाएं